घर से ही शुरू हो सकता है मेहँदी की कोन बनाने का काम . पढ़े पूरी जानकारी

भारत में मेहंदी (Mehandi) का उपयोग बहुत पुराने समय से हो रहा हैं. मेहंदी शब्द की उत्पत्ति संस्कृत के शब्द मेंधिका से मानी जाती हैं. भारत संस्क्रती की हिस्सा बन चुकी मेहँदी का उपयोग भारत में हिन्दुओ द्वारा विवाह आदि में किया जाता हैं. बहार से भारत में आयी जातियां भी मेहंदी के रंग से खुद को दूर नहीं रख पाई और उन्होंने भी मेहंदी (Mehandi)  का उपयोग करना प्रारंभ कर दिया.

कुल मिलाकर हम कह सकते हैं कि  मेहंदी एक ऐसी वस्तु हैं का उपयोग भारत के बहुत आम हैं. पहले घरों में मेहंदी का उपयोग त्योहारों आदि पर हाथों में लगाने के लिए होता था. उस समय मेहँदी (Mehandi) पाउडर बाज़ार से लाकर घरों में मेहन्दी पाउडर को छान कर पोलीथीन से कोन बनाई जाती थी जिसमें मेहन्दी (Mehandi)  भर कर मेहंदी को हाथों पर लगाया जाता था. लेकिन फिर बाज़ार में बने बनाये कोन मिलने लगे और जो लोग मेहंदी केवल किसी ख़ास मौके पर लगाते थे अब जब मन हो तब मेहंदी लगा लेते हैं.

कैसी हैं मेहंदी व्यवसाय (Mehandi Manufacturing) में संभावनाएं

बाज़ार में उपभोक्ताओं को मेहन्दी लेने के लिए किसी ब्रांड नेम की अभी तक आवश्यकता नहीं पड़ती. सिर्फ दूकान पर जाकर मेहंदी बोल देने भर से मेहन्दी मिल जाती हैं. इससे आप समझ सकते हैं कि किसी एक ब्रांड का वर्चस्व इस क्षेत्र में नहीं हैं. अगर आपकी डिस्ट्रीब्यूटरशिप बेहतर हैं तो आप अधिक से अधिक माल दुकानों तक पहुंचा सकते हैं. साथ ही सुखी मेहंदी की सीमित शेल्फ लाइफ नहीं होती यानि इसे पैक होने के कफी समय बाद तक भी इस्तमाल किया जा सकता हैं. ये बात भी व्यवसायी के पक्ष में जाती हैं और बिज़नस के जोखिम को कम करती हैं.

मेहंदी मैन्युफैक्चरिंग (Mehandi Manufacturing) यूनिट शुरू करने के लिए आवश्यक कच्चा माल

मेहंदी मैन्युफैक्चरिंग के लिया सबसे आवश्यक कच्चा माल मेहंदी के पत्ते हैं. मेहंदी के साथ मिक्स करने के लिए कुछ अन्य हर्ब शुगर व पीसी हुई मेहंदी को पैक करने के लिए आवश्यक पैकिंग सामग्री.

मेहंदी मैन्युफैक्चरिंग (Mehandi Manufacturing) यूनिट शुरू करने के लिए आवश्यक मशीनरी

इस व्यवसाय में आपको पल्वराईज़र मशीन व मोटर की आवश्यकता होगी साथ ही मेहंधी को कूड़े से अलग करने के लिए छलनी, मेहंदी का भार तोलने के लिए वेट मशीन, व मेहंदी के पाउच की पैकिंग करने के लिए पुच सीलिंग मशीन की आवश्यकता होगी.

कैसे शुरू करे मेहंदी मैन्युफैक्चरिंग(Mehandi Manufacturing) यूनिट

मेहंदी पाउडर बनाने की यूनिट लगाने के लिए आपको बहुत ज्यादा बड़ी जगह की आवश्यकता तो नहीं हैं लेकिन आप जिस जगह अपनी यूनिट लगाने जा रहे हैं वहां अच्छी धूप आना आवश्यक हैं साथ ही मेहंदी के पत्ते जिस जगह ग्राइंड किये जाये वहां धूल व मिट्टी बिक्कुल भी नहीं होनी चाहिए क्यूंकि धूल मेहंदी की क्वालिटी को प्रभावित कर सकती हैं.

मेहंदी मैन्युफैक्चरिंग (Mehandi Manufacturing) प्रोसेस

अगर आपको मुख्य कच्चा माल यानि मेहंदी के पत्ते किसी डीलर की सहायता से प्राप्त हो जाते हैं तो आपका मेहंदी पाउडर मैन्युफैक्चरिंग प्रोसेस आसान बन जाता हैं लेकिन अगर आप ऐसे भाग में रहते हैं जहाँ आप मेहंदी का उत्पादन भी खुद ही कर सकें तो पहले आपको खेतों से मेहंदी के पत्ते चुनवाने होंगे. मेहंदी के पत्ते तीन प्रकार के आते हैं; सबसे कम क्वालिटी वाले काले धब्बों वाले पत्ते, कुछ सुनहरी आभा लिए मध्यम क्वालिटी वाले पत्ते व सबसे अच्छी क्वालिटी वाले हरे पत्ते. इन तीनों प्रकार के पत्तों को उनके रंगों के अनुसार अगल अलग कर लें. अब पत्तों को अच्छे से सुखा लें. सुख जाने के बाद पत्तों को पीसने के लिए मशीन में दाल दें. पीसे गया  पाउडर को छलनी से चन कर अशुद्धियों को दूर कर लें. व इसके बाद मेहंदी का वेट करके पैक कर दे. अब आपका प्रोडक्ट बाज़ार में बिकने के लिए तैयार हैं.

कैसे शुरू करें पापड़ (Papad) उद्योग , पढ़िए पापड़ उद्योग की पूरी जानकारी 

छोटे शहर में फ़ूड बिज़नेस में आपके आपके करियर के लिए छुपी है अपार संभावनाएं


Comments

comments

loading...

- Apply This Job

Your Name (required)

Your Email (required)

Upload Resume (3mb max)

Your Message